Sri Lanka Economic Crisis भूखमरी की कगार पर पहुँचा श्रीलंका

Sri Lanka Economic Crisis

Sri Lanka Economic Crisis श्रीलंका में आई भुखमरी के हालात आर्थिक संकट में फंसा श्रीलंका श्रीलंका जैसे सोने का भंडार भी कहा जाता था आज उसके पास ऐसे हालात पैदा हो गया है कि लोग के पास खाने के लिए पैसे नहीं है लोग के पास पैसे हो करके भी वह कोई काम का नहीं बचा है महंगाई आसमान पर पहुंच गई है लोगों के हॉस्पिटल जाने तक की मारामारी चल रही है देश के पास विदेशी मुद्रा भंडार भी नहीं है मात्र 10 दिनों का विदेशी मुद्रा भंडार है बचा हुआ है

जिसके वजह से श्रीलंका अब विदेशों से ज्यादा सामान खरीद नहीं सकता है जैसे दवाएं हो गई चीनी हो गया कच्चा तेल हो गया यह सारी चीजें खरीदने के लिए विदेशी मुद्रा भंडार होना जरूरी है तो क्या भारत श्रीलंका के करेगा मदद या नहीं और कैसे ऐसे बुरे हालात पैदा हुए श्रीलंका में आज देखते हैं पूरी जानकारी

Sri Lanka Economic Crisis

श्रीलंका में आर्थिक संकट बहुत ही ज्यादा दिनों से चल रही है लेकिन अभी फिलहाल सभी जरूरी सामानों की कीमतें एकदम से ऊंचाई पर पहुंच चुकी है जिसके वजह से लोग दाने-दाने के लिए मोहताज होते जा रहे हैं लोगों के पास काम तो है लेकिन उसके दाम मिलने वाले धाम की कीमत ही नहीं बची है जहां चीनी भारत में ₹30 है वहीं श्रीलंका में 200 से पार हो चुकी है चीनी के दाम ऐसी बहुत सारी चीजें हैं जिसके दाम आसमान छू रहे हैं श्रीलंका में गैस सिलेंडर जो कि भारत में 12 ₹100 में मिलते हैं वहीं श्रीलंका में 4000 के पार पहुंच चुकी है इसके पीछे किसका हाथ और कैसे इतने बुरे हालात पैदा हुए हैं इसको जानने के लिए आप नीचे जरूर पढ़ें डिटेल में

Watch IPL 2022 Free – Ipl free me dekhen 2022 app| इंडियन प्रीमियर लीग फ्री में लाइव देख।।

Sri Lanka Economic Crisis

Sri Lanka Economic Crisis in Details

श्रीलंका में आई आर्थिक संकट के पीछे विशेषज्ञ की अगर मानें तो उनके द्वारा बताया जा रहा है कि श्रीलंका पर कर्ज का बोझ इतना बढ़ चुका है जिसके वजह से आर्थिक संकट पैदा हुई है श्रीलंका के ऊपर 35 बिलियन डॉलर का कर्ज है जिसमें से चाइना के द्वारा ही कई 5 billion-dollar का कर्ज दिया गया है और  चाइना के बिछाए गए जाल की वजह से ही आज श्रीलंका  इतनी बुरी हालत है चाइना के द्वारा दी गई कर्ज की कीमत और श्रीलंका को अपना हंबनटोटा पोर्ट को उसे 1000 करोड रुपए में लीज पर देने पड़ी है

IAS INTERVIEW में पूछे गये गन्दे सवाल – अगर आपने अपने सारे कपड़े उतार दिए तो क्या होगा

Sri Lanka Economic Crisis चीन के द्वारा श्रीलंका को लोन में ढील देने से भी मना कर दी है जिसके वजह से अब चाइना को जल्द से जल्द श्रीलंका द्वारा कर्ज वापस करना होगा जिसके वजह से ही इतनी बड़ी आपदा से लंका में आई है आपको बता दें श्रीलंका के पास विदेशी मुद्रा भंडार कम होने के पीछे का कारण यह भी है कि वहां पर विदेशी पर्यटक नहीं आ रहे हैं जिसके वजह से विदेशी मुद्रा नहीं आ पा रही है जहां भारत में $1 की कीमत ₹74 है तो वही श्रीलंका में $1 की कीमत 297 श्रीलंकन रुपए हैं 

India Helps Sri Lanka In Crisis

बोलते हैं ना बुरे वक्त में हार जब कोई साथ नहीं देता तो हमारा देश भारत ही अपने पड़ोसी देशों को साथ देता है जहां चीन द्वारा बिछाए गए जाल में फंस करके श्रीलंका का आज बुरा हाल हो चुका है तो अब श्रीलंका को भारत की याद आई है और भारत कभी भी अपने पड़ोसी देशों को अकेला नहीं छोड़ता है उनकी बुरी हालातों में इस वक्त भी श्रीलंका को भारत के द्वारा एक बिलियन डॉलर का क्रेडिट लिया गया है जिसके तहत श्रीलंका भारत से एक बिलियन डॉलर तक का सामान खरीद सकता है जिसके लिए उसे अभी पैसे देने की आवश्यकता नहीं होगी वह भारत से दवाई खाने पीने के सामान और भी जरूरी सामानों हमारे देश से खरीद सकता है

Sri Lanka Economic Crisis latest prices

 भूखमरी की कगार पर पहुँचा श्रीलंका 

श्रीलंका में ऐसे हालात पैदा हो गए हैं जिसमें लोगों को भुखमरी से मरने की तक की हालातों का सामना करना पड़ रहा है आपको बता दें श्रीलंका में अभी हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान से भी ज्यादा बुरे हालात पैदा हो चुके हैं श्रीलंका में खाने-पीने के सम्मान और जरूरी सामान जिसकी हर दिन आवश्यकता होती है उसकी कीमतें लगातार बढ़ती जा रही है चीनी ₹290 पहुंच चुकी है चावल ₹500 किलो पहुंच चुकी है चाय ₹100 किलो पहुंच चुकी है और गैस सिलेंडर ₹4000 पहुंच चुकी है ऐसे ही कई सारे जरूरी सामानों की कीमतें बढ़ चुकी है और जिसकी वजह से श्रीलंका के लोगों को सामान खरीदने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है एक तो इतनी बेरोजगारी श्रीलंका में है कि लोग पैसे पैसे के लिए मोहताज हो रहा है

https://fullonhindi.com/

One Comment on “Sri Lanka Economic Crisis भूखमरी की कगार पर पहुँचा श्रीलंका”

Leave a Reply

Your email address will not be published.